Friday, March 18, 2011

मेरी गज़लें : १





इस बार तनहा नहीं आया हूँ |
दर्द मैं अपने साथ लाया हूँ |

जो मुझसे कुछ कहता ही नहीं,
मैं बेवकूफ उसे सब बता आया हूँ |

अपने अश्कों को जी भर निकालने दो,
मैं उसकी आँखों में जो समाया हूँ |

उतनी दूर दूर खुद को पाता हूँ,
जितने पास पास मैं तेरे आया हूँ |

प्यार करना चाहता हूँ तुझसे, 
जानता हूँ कि मैं ठुकराया हूँ |

 तुझसे तक नजर नहीं मिला रहा,
खुदसे इस क़दर शरमाया हूँ |


[पेंटिंग : लाना डेयाम की लेंडस्केप्स पेंटिंग्स की सीरीज़]

12 comments:

  1. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 22 -03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. दर्द के भावों को समेटे हुए बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है... बहुत पसंद आई...



    "प्यार करता चाहता हूँ तुझसे" में मेरे ख्याल से करता की जगह "करना" होना चाहिए... देख लीजिए...

    ReplyDelete
  3. बेहद मनमोहक भावो मे सजी गज़ल्।

    ReplyDelete
  4. जो मुझसे कुछ कहता ही नहीं,
    मैं बेवकूफ उसे सब बता आया हूँ |

    bahot khoob !

    ReplyDelete
  5. सुंदर मनमोहक भावो मे सजी गज़ल्।

    ReplyDelete
  6. भारतीय ब्लॉग लेखक मंच शहीद दिवस पर आज़ादी के दीवाने शहीद-ए-आज़म भारत माता के वीर सपूत भगत सिंह सहित उन सभी वीर सपूतो को नमन करता है जिन्होंने भारत माता को आजाद करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी.
    आईये हम सब मिलकर यह संकल्प ले की भारत की आन-बान और शान के लिए हम सदैव तत्पर रहेंगे. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete
  7. जो मुझसे कुछ कहता ही नहीं,
    मैं बेवकूफ उसे सब बता आया हूँ |
    waah

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत उम्दा.

    ReplyDelete
  10. नीरज जी बहुत अच्छा प्रयास है...लिखते रहें, ग़ज़ल की बारीकियां खुद ब खुद समझ आने लगेंगी...

    नीरज

    ReplyDelete