Wednesday, November 3, 2010

काँव-काँव त्रिवेणी

यार जिदंगी भर कहानियाँ ही लिखता रहा तो मैं ही कहानी बन जाऊँगा |  वो वादा ही क्या जिसे तोडा ना जाए | वैसे तो ये भी मैं त्रिवेणी स्टाइल में लिख सकता था| बहरहाल ... गुलज़ार का ही आविष्कार है शायद त्रिवेनियाँ , अगर नहीं तो माफ़ करना क्योंकि हिंदी व्याकरण का मेरा ज्ञान थोडा कम है | अमीर खुसरो के बाद किसी को है भी कहाँ | त्रिवेणी का गहन और गुप्त (गुप्त इसलिए क्यूंकि ऑफिस में किया ) अध्ययन करने के उपरांत मैं ये बात समझा हूँ कि दो पंक्तियों का तीसरी पंक्ति से रिश्ता नहीं होते हुए भी होता है | कोई और परिभाषा है तो मुझे मत बताना, आजकल संज्ञा सर्वनाम पे भी गाली मारते हैं लोग | तो कुछ त्रिवेनियाँ लिखने की कोशिश की हैं | पहले ही कह देता हूँ , कथाकार की तड़ी में रहता हूँ , इसलिए भाव से अधिक विषय प्रधान होगा | 

- मेरे सीने में लगी है दुश्मन की एक गोली,
ये गिरा मैं इधर, जय हिंद कहते हुए,

बच्चों के साथ तुम भी बच्चे बन जाते हो |



- गिरा, फिर उठा, फिर से गिर गया,
आसमान को देख के फिर से हौसला लाया है ,

फिर भी बंटू रेस में सबसे आखिरी में आया है |



-आओ मंदिर मस्जिद खेलें, कुरआन-गीता बांचे हम,
आओ होली-ईद मनाएं , खुशियों के दिए जलाएं,

मगर आज सुबह से  बाज़ार में कर्फ्यू लगा है |



-क्या दिया पापा ने हमें , बस छोड़ गए रंजिशें, 
उनके जाने के बाद भी हम झगड़ते रहे जमीन को लेकर,

बापू की तस्वीर पे नया फ्रेम लगाना था यार |



-बात नहीं की पूरे दिन, जाने कहाँ गायब रहा .
सुबह सुबह सूरज ने मारा था उसे ,

चाँद ने रो रो के शबनम गिराए रात भर |




-कुछ सोचता ही नहीं , कुछ देखता भी नहीं.
फिर भी हर रोज़ एक नयी पोस्ट लिखता हूँ.

कीबोर्ड भी अजीब ज़ज्बाती होता है |




-आज फिर गलत इन्फोर्म किया उसने आशिक को , 
वो बेचारा दिन भर माशूक का वेट करता रहा ,


नया कव्वा है, नहीं जानता किस मुंडेर पे काँव-काँव करनी है |

11 comments:

  1. 2/10

    बरखुदार आपने बुलाया हम आ गए.
    यहाँ कई ब्लॉग पर कभी-कभार त्रिवेणी पढने को मिल जाती हैं.
    त्रिवेणी के बारे में ज्यादा जानकारी मुझे भी नहीं है.
    लेकिन आपकी त्रिवेणी जम नहीं रही.
    बहुत ही कच्चापन नजर आ रहा है.
    बाकी कोई एक्सपर्ट ही ज्यादा कुछ बता पायेगा.

    ReplyDelete
  2. apurn jee

    कुछ सोचता ही नहीं , कुछ देखता भी नहीं.
    फिर भी हर रोज़ एक नयी पोस्ट लिखता हूँ.

    कीबोर्ड भी अजीब ज़ज्बाती होता है |

    apan par bhi laagoo hoti hai ye triweni.

    ReplyDelete
  3. or haan,

    Setting mein jaakar word verification hata dein.... comments dene mein prob. hoti hai.

    ReplyDelete
  4. "कुछ सोचता ही नहीं , कुछ देखता भी नहीं.
    फिर भी हर रोज़ एक नयी पोस्ट लिखता हूँ.

    कीबोर्ड भी अजीब ज़ज्बाती होता है|"

    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  5. आपको भारत के महापर्व दीपोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी पोस्ट,

    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  7. दीपावली का त्यौहार आप, सभी मित्र जनो को परिवार को एवम् मित्रो को सुख,खुशी,सफलता एवम स्वस्थता का योग प्रदान करे -
    इसी शुभकामनओ के साथ हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  8. ब्‍लॉग्‍स की दुनिया में मैं आपका खैरकदम करता हूं, जो पहले आ गए उनको भी सलाम और जो मेरी तरह देर कर गए उनका भी देर से लेकिन दुरूस्‍त स्‍वागत। मैंने बनाया है रफटफ स्‍टॉक, जहां कुछ काम का है कुछ नाम का पर सब मुफत का और सब लुत्‍फ का, यहां आपको तकनीक की तमाशा भी मिलेगा और अदब की गहराई भी। आइए, देखिए और यह छोटी सी कोशिश अच्‍छी लगे तो आते भी रहिएगा


    http://ruftufstock.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. इस सुंदर से नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  10. लेखन अपने आपमें रचनाधर्मिता का परिचायक है. लिखना जारी रखें, बेशक कोई समर्थन करे या नहीं!
    बिना आलोचना के भी लिखने का मजा नहीं!

    यदि समय हो तो आप निम्न ब्लॉग पर लीक से हटकर एक लेख
    "आपने पुलिस के लिए क्या किया है?"
    पढ़ सकते है.

    http://baasvoice.blogspot.com/
    Thanks.

    ReplyDelete